आबुनाथस्वामी अबधूत विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस श्री महेश्वरानन्द पुरीजी, पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा

मैं जो भी कहता हूं वह महाप्रभुजी के ही शब्‍द हैं । वेदों और उपनिषदों में जो कहा गया है वह महाप्रभुजी ने कहा है । मेरी इच्‍छा आप सब को केवल शरीर से ही स्‍वस्‍थ व सुन्‍दर बनाने की नहीं है, मैं तो आपको जन्‍म मरण के बन्‍धन से ही छुटकारा दिलाना चाहता हूँ । मेरा प्रयास आपके समस्‍त कर्मों को ही काट देने का है । मैं उस सबसे बडे वकील से आपकी वकालत कर रहा हूं और करता रहूंगा कि जब आप इस संसार से जाएं तो आप खाली हाथ न जायें उस समय आपके साथ असली ज्ञान की ज्‍योति भी हो जो आपको परम प्रभु से मिला दे ।

March 2016

शिवरात्रि पर्व २०१६

आओ हम सब शिवरात्रि पर्व मनायें
वैश्विक चेतना की गूँज ब्रह्माण्ड में प्रतिनिधित्व व प्रदर्शित करती है जो एक से अनेक रूपों में मौजूद हैं । इस प्रकार वैश्विक चेतना का व्यक्तिगत चेतना में रूपान्तरण होता हैं ।
February 2016

बसंत पंचमी महोत्सव जिगनी, दक्षिण भारत में

बसंत पंचमी की शुभ संध्या पर परम पूज्य विश्वगुरु महामण्डलेश्वर परमहंस श्री स्वामी महेश्वरानंद पुरीजी महाराज ने प्रशान्ति कुटिरम, स्वामी विवेकानंद विश्वविद्यालय में सत्संग दिया।
January 2016

नीपल गाँव में पानी की टंकी का उद्घाटन

२२ जनवरी २०१६ को हिन्दू धर्म सम्राट परमहंस स्वामी माधवानन्दजी आश्रम के पास छोटे से गाँव नीपल में निर्माण की गई पानी की टंकी को आधिकारिक रूप से खोला गया और भारत सरकार को सुपुर्द किया गया।